Tuesday, January 20, 2015

मै मिथ्या हूँ, और यही सत्य है

एक अलग प्रयास, सही गलत पता नहीं। और जैसा कि मैंने पहले भी कहा है, सही गलत से अधिक लिखने में स्वयं को आनंद आना चाहिए :) पढ़िये और अपने विचार से अवगत कराइये:

मै मिथ्या हूँ, और यही सत्य है।

मै जो अंदर हूँ, वो बाहर नहीं !!
जो कथन में है, वो कर्म में नहीं !!
मै नश्वर हूँ, मै मिथ्या हूँ।।

मै सांत्वना देता हूँ, पर स्वयं दुखी !! 
मै सहायता करता हूँ, पर स्वयं असहाय !!
मै निर्बल हूँ, मै मिथ्या हूँ।

मै स्वतंत्र हूँ, पर द्वन्द से घिरा हुआ !!
मै धनवान हूँ, पर महत्वाकांक्षा का शिकार !!
मै "निर्धन" हूँ, मै मिथ्या हूँ।।

"मै" अहम है, "मै" मिथ्या है !
"मै" के बिना मै ब्रह्म, और यही परम सत्य है। 

16 comments:

  1. मिथ्या एवं सत्य की सटीक मीमांसा

    ReplyDelete
  2. सटीक सोच का सुंदर expression...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Many thanks for your views, coming from you means a lot !

      Delete
  3. अति उत्तम!सत्य है। सब दुखी हैं पर दुसरे को सान्तवना देते हैं। अपने को इसी रूप में पाया है। बहुत खूब!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार इस रचना को पसंद करने के लिए !

      Delete
  4. सच में ज्यादा हट कर है । द्वन्द और अध्यात्म का संयोजन द्वन्द और विभ्र्म के जरिये सामने लाना अद्भुद कला है जिसे अपने बखूबी पूर्ण किया :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके विचार मिल गए और वो भी इतने उत्तम, और कुछ नहीं चाहिए; रचना सफल हो गयी :)

      Delete
  5. satyata ko sundarta se ukera hai aapne...shukriya iss sundar rachna ke liye...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार, इस रचना को पसंद करने के लिये।

      Delete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. It's ultimate truth Pandey Ji linked beautiful words,Touching to the heart.beautiful,intresting,and thanks Rahul Ji

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks sir, you have been a constant supporter of my writing..thanks for motivation !!

      Delete
  8. Pandey Ji apne to jeevan ka saaransh likh diya hai. Jitni tareef ki jaaye utni kam hai. Likhte rahiye, bahut sundar prastuti.

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanyavad :) aapke vichar jaanne ke liye utsuk tha, abhi achchha lag raha hai :))

      Delete